Categories
funny stories funny stories for whatsapp funny stories in hindi Hindi Kahaniya Hindi Kahaniyaan kahaniya in hindi Kahaniyaan in hindi Moral Kahaniya moral stories in hindi

HINDI KAHANIYAAN : MORAL STORIES IN HINDI राज्य में राज्य (सुमेर की कहानियाँ) कहानी 19

राज्य में राज्य

आज आप पढेंगे MORAL STORIES IN HINDI जो की सुमेर की HINDI KAHANIYA से जुडी है।

राजा सूर्यभान के राज्य में जब वो जादूगर आया था जिसने अफ्सराओं का नृत्य दिखाने को कहा था। तभी से राजा ऐसा जादू देखना चाहते थे जो उन्होंने कभी पहले न देखा हो। राजा ने सुमेर से कहा,” सुमेर तुम तो असंभव से असंभव कार्य भी कर लेते हो। मेरी एक ख्वाइश है, क्या तुम पूरी कर पाओगे ?” सुमेर ने कहा,” आदेश करें महाराज।” राजा ने दिल की बात कह दी।
                                                सुमेर ने कहा,” इसमें कोई बड़ी बात नहीं। मै आपको ऐसा जादू दिखा सकता हूँ लेकिन इसके लिए आपको वहां चलना होगा जहाँ मै कहूँगा।” राजा तैयार हो गए। सुमेर ने कहा,” ठीक है महाराज। मै जिस दिन कहूँगा उस दिन चलिएगा और सेना को भी  साथ ले लीजियेगा। मै आपको पाताल लेकर चलूँगा और वहां के राजा से मिलवाऊंगा।” राजा बड़े खुश  हुए।

                                                 राजा उस दिन का इंतज़ार करने लगे जब पाताल चलना था। आखिर वो दिन आ ही गया। सुमेर सैनिको और राजा के साथ चल दिया। वो सब चलते चलते एक जंगल में पहुंचे। वहां पर एक गुफा थी। सुमेर ने सभी को उस गुफा में चलने को कहा।

                                                वैसे तो राजाजी इस जंगल में बहुत बार आये थे लेकिन कभी वो इस गुफा में नहीं गए थे। सभी गुफा में आगे बढ़ने लगे। गुफा बहुत लम्बी थी। वो ख़त्म ही नहीं हो रही थी। राजा उतने ही ज्यादा उत्सुक होते जा रहे थे। चलते चलते वो जगह आ गयी जहाँ गुफा ख़त्म हो गयी। सुमेर ने गुफा की एक दीवार को मुक्के से मारा, तो वो एक किनारे हट गया और आगे रास्ता बन गया। वो आगे बढ़ गए।
                                               आगे जाकर उन्होंने देखा तो वहां ढेर सारे सैनिक थे जो की राजा सूर्यभान के सैनिको को बंदी बनाये हुए थे। राजा ने सुमेर से पूछा,” ये पाताल तो नहीं है ? क्योंकि हम अपने ही राज्य में है। तो ये हमारे राज्य में ही कौनसा दूसरा राज्य आ गया ? और तो और इन लोगो ने हमारे ही सैनिको को बंदी बनाये रखा है। क्या ये हमारे दुश्मन हैं ?”
                                                सुमेर ने कहा,” महाराज ये एक ढोंगी बाबा का राज्य है। वो हमारे राज्य में ही रहता है। मुझे उस पर शक हुआ था तो एक दिन मैंने उसका पीछा किया। वो इस गुफा में आकर गायब हो गया। जब मैंने गुफा का अच्छे से निरीक्षण किया तो मुझे सच्चाई का पता चला। ये हमारे सैनिको को बंदी बनाता है। और तो और ये हमारे राज्य पर हमला करने का सोच रहा है।”

                                               राजा ने पूरी बात सुनी। और सैनिको को आदेश दिया की सभी सैनिको को बंदी बना लो और ढोंगी बाबा को मेरे सामने लाओ।

                                                राजा सुमेर के इस बुद्धिमानी से बहुत खुश हुए और उपहार के रूप में ढेर सारा धन दिया। राजा ने सुमेर से कहा ,” तुमने सच में मुझे ऐसा जादू दिखाया जिसके बारे में मै सोच भी नहीं सकता था।” राजा ने चुटकी लेते हुए कहा,” अब तो पाताल का राजा हमारा बंदी है। तो क्या अब पाताल पर हमारा कब्ज़ा हो गया ?”  सुमेर ने हँसते हुए कहा,” बिल्कुल महाराज।”

शिक्षा- कभी कभी हमारे दुश्मन हमारे बहुत पास में होते हैं लेकिन छिपे होने की वजह से दिखाई नहीं देते। ये बहुत घातक होते हैं इसलिए इन पर ध्यान दें।

READ MORE- राजा पर जूती (सुमेर की कहानियाँ) कहानी 18 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *